सामान्य रसायन विज्ञान gk Part 70 | 50 + GK questions

सामान्य रसायन विज्ञान gk Part 70 | 50 + GK questions | कंपटीशन परीक्षा में पूछे जाने वाले सामान्य रसायन विज्ञान के प्रश्न उत्तर | NEET में पूछे जाने वाले सामान्य  रसायन विज्ञान के प्रश्न उत्तर | 11th स्टैंडर्ड के प्रश्न उत्तर |  रसायन विज्ञान के संबंधित संपूर्ण प्रश्न उत्तर – सामान्य रसायन विज्ञान GK Part 70

सामान्य रसायन विज्ञान gk Part 70

Q. 1. किसी संक्रमण तत्व की निम्नतम ऑक्सीकरण अवस्था किस के तुल्य होती है?

Ans. किसी संक्रमण तत्व की निम्नतम ऑक्सीकरण अवस्था ns कक्षक में उपस्थित इलेक्ट्रॉनों की संख्या के तुल्य होती है।

Q. 2. MnO की प्रकृति क्या है?

Ans. MnO की प्रकृति क्षारीय है।

Q. 3. संक्रमण तत्वों की 3d श्रेणी की सामान्य ऑक्सीकरण अवस्था कौन सी होती है?

Ans. संक्रमण तत्वों की 3d श्रेणी की सामान्य ऑक्सीकरण अवस्था +2 होती है।

Q. 4. तत्व की किसी ऑक्सीकरण अवस्था के स्थायित्व को प्रभावित करने वाले कारक कौन-कौन से हैं?

Ans. तत्व की किसी ऑक्सीकरण अवस्था का स्थायित्व निम्नलिखित कारकों पर निर्भर करता है-1) उर्ध्वपातन ऊर्जा 2)आयनन एंथैल्पी तथा 3) जलयोजन एंथैल्पी।

Q. 5. कोई धातु अपनी उच्चतम ऑक्सीकरण अवस्था केवल ऑक्साइड अथवा फ्लोराइड में ही क्या प्रदर्शित करता है?

Ans.किसी धातु की उच्चतम ऑक्सीकरण अवस्था ऑक्साइड तथा फ्लोराइड में ही होती है क्योंकि छोटे आकार, उच्च विद्युतऋणता तथा उच्च धनात्मक अपचयन विभव के कारण ऑक्सीजन अथवा फ्लोरीन, धातु को उसकी उच्च ऑक्सीकरण अवस्था तक ऑक्सीकृत कर देती है।

Q. 6. Sc के समस्त यौगिक रंगहीन होते हैं, क्यों?

Ans. Sc के सभी यौगिक में +3 ऑक्सीकरण अवस्था होता है जिसमें कोई अयुग्मित इलेक्ट्रॉन नहीं होता अतः ये सभी यौगिक रंगहीन होते हैं।

Q. 7.  ऐक्टिनाॅयडों में ऑक्सीकरण अवस्थाओं का परास लैन्थेनाॅयडों की अपेक्षा अधिक होता है, क्यों?

Ans. ऐक्टिनाॅयडों में ऑक्सीकरण अवस्थाओं का परास लैन्थेनाॅयडों की अपेक्षा अधिक होता है क्योंकि इनमें 5f, 6d तथा 7d उपकोशों की ऊर्जा लगभग समान होती है अतः इनके इलेक्ट्रॉन बंध बनाने में भाग लेते हैं।

Q. 8. आयनिक त्रिज्या किसे कहते हैं?

Ans. किसी परमाणु या आयन के बाह्मतम इलेक्ट्रॉनिक नाभिकीय के मध्य की दूरी को आयनिक त्रिज्या कहते हैं।

Q. 9. आयनन ऊर्जा किसे कहते हैं?

Ans. गैसीय परमाणु के बाह्मतम के एक इलेक्ट्रॉन को विलगित करने के लिए आवश्यक ऊर्जा को आयनन ऊर्जा कहते हैं।

Q. 10. अंतराकाश किसे कहते हैं?

Ans. संक्रमण धातुओं में परमाणुओं के निबिड़ संकुलित होने के बावजूद छोटे-छोटे रिक्त स्थान बचे रह जाते हैं जिन्हें अंतराकाश कहते हैं।

Q. 11. संकुल [Pt(NH3)3 Cl2Br]Cl के जलीय विलयन में उपस्थित क्लोराइड आयनों की संख्या कितनी होगी?
यह भी पढ़ें  सामान्य कंप्यूटर ज्ञान gk part 25

Ans. संकुल [Pt(NH3)3 Cl2Br]Cl के जलीय विलयन में उपस्थित क्लोराइड आयनों की संख्या 6 होगी।

Q. 12. K4[Fe(CN)6] में Fe की प्राथमिक संयोजकता कितनी है?

Ans. K4[Fe(CN)6] में Fe की प्राथमिक संयोजकता +2 है।

Q. 13. किस के जलीय विलयन में स्वतंत्र Fe3+ आयन उपस्थित होता है?

Ans. Fe2(SO4)3 के जलीय विलयन में स्वतंत्र Fe3+ आयन उपस्थित होता है।

Q. 14. संकुल Na2[Ni(EDTA)] में Ni की समन्वयी संख्या कितनी है?

Ans. संकुल Na2[Ni(EDTA)] में Ni की समन्वयी संख्या 6 है।

Q. 15. [Fe(CN6]4-  में अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की संख्या कितनी है?

Ans. [Fe(CN6]4-  में अयुग्मित इलेक्ट्रॉनों की संख्या शुन्य है।

Q. 16. संकुल में कौन सा लिगेंड होने पर बंधनी समावयवता होगी?

Ans. संकुल में NCS- लिगेंड होने पर बंधनी समावयवता होगी।

Q. 17. अजलीय CuSO4 का रंग कैसा होता है?

Ans. अजलीय CuSO4 रंगहीन होता है।

Q. 18. वह संकुल यौगिक कौन सा है जो एंटी कैंसर के रूप में प्रयोग किया जाता है?

Ans. वह संकुल यौगिक सिसप्लेटिन है जो एंटी कैंसर के रूप में प्रयोग किया जाता है।

Q. 19.  द्विक लवण का दूसरा नाम क्या है?

Ans. द्विक लवण का दूसरा नाम जालक यौगिक है।

Q. 20. संकुल यौगिक का दूसरा नाम क्या है?

Ans. संकुल यौगिक का दूसरा नाम उपसहसंयोजक यौगिक भी है।

Q. 21. उपसहसंयोजक योगिक किसे कहते हैं?

Ans. वे यौगिक जिनमें केंद्रीय धातु परमाणु /आयन अन्य उदासीन अणुओं या आयनों के साथ उपसहसंयोजक बंध द्वारा बंधित हो, उपसहसंयोजक यौगिक कहलाते हैं।

Q. 22. केंद्रीय आयन किसे कहते हैं?

Ans. धनायन या उदासीन धातु परमाणु जिससे दो या दो से अधिक उदासीन अणु या ऋणायन उपसहसंयोजक बंध से बंधित हो, केंद्रीय आयन कहलाता है।

Q. 23. लिगैंड किसे कहते हैं?

Ans. ध्रुवीय अणु और ऋणायन जिस पर न्यूनतम एक एकाकी इलेक्ट्रॉन युग्म में उपस्थित हो, लिगैंड कहलाते हैं।

Q. 24. दाता परमाणु किसे कहते हैं?

Ans. वह परमाणु जो एकाकी इलेक्ट्रॉन युग्म केंद्रीय आयन को प्रदान कर उपसहसंयोजक बंध बनाता है दाता परमाणु कहलाता है।

Q. 25. उभयदंती लिगैंड किसे कहते हैं?

Ans. एक दंतुक लिगैंड जिनमें 1 से अधिक दाता परमाणु केंद्रीय आयन से उपसहसंयोजक बंधुओं द्वारा बंधित हो, उभयदंती लिगैंड कहलाते हैं।

Q. 26. कीलेट लिगैंड किसे कहते हैं?

Ans. बहुदंतुक लिगैंड केंद्रीय आयन से अपने दो या दो से अधिक दाता परमाणुओं का प्रयोग उपसहसंयोजक बंध के लिए करता है तो एक वलय प्राप्त होती है इस वलय को कीलेट लिगैंड कहते हैं।

यह भी पढ़ें  संस्थाएं व संगठन के महत्वपूर्ण gk part 3
Q. 27. उपसहसंयोजक संख्या किसे कहते हैं?

Ans. केंद्रीय धातु आयन से लिगैंडों द्वारा बनाए गए उपसहसंयोजक बंध की कुल संख्या उपसहसंयोजक संख्या कहलाती है।

Q. 28. समन्वय मंडल किसे कहते हैं?

Ans. केंद्रीय परमाणु से जुड़े लिगैंडों को एक साथ वर्गाकार कोष्टक में लिखते हैं एवं इस प्रकार कोष्टक को समन्वय मंडल कहते हैं।

Q. 29. आयनिक मंडल किसे कहते हैं?

Ans. उपसहसंयोजक यौगिक में वर्ग कोष्टक के बाहर आयनीकृत होने वाला समूह आयनिक मंडल कहलाता है।

Q. 30. समन्वय बहुफलक किसे कहते हैं?

Ans. केंद्रीय परमाणु से सीधे जुड़े लिगैंड समूहों की दिक् स्थान व्यवस्था को समन्वय बहुफलक कहते हैं।

Q. 31. होमोलेप्टिक संकुल किसे कहते हैं?

Ans. ऐसे संकुल जिनमें धातु परमाणु केवल एक प्रकार के दाता समूह से जुड़े रहते हैं, होमोलेप्टिक संकुल कहलाते हैं।

Q. 32. हेट्रोलेप्टिक संकुल किसे कहते हैं?

Ans. ऐसे संकुल जिनमें धातु परमाणु एक से अधिक प्रकार के दाता समूहों से जुड़े रहते हैं, हेट्रोलेप्टिक संकुल कहलाते हैं।

Q. 33. समावयवता किसे कहते हैं?

Ans. दो या दो से अधिक रासायनिक यौगिक जिनके अणुसूत्र समान हो परंतु उनकी संरचना त्रिविम व्यवस्था भिन्न हो समावयवी कहलाते हैं एवं इस प्रक्रम को समावयवता कहते हैं।

Q. 34. यौगिक कितने प्रकार की समावयवता प्रदर्शित करते हैं?

Ans. यौगिक दो प्रकार की समावयवता प्रदर्शित करते हैं।

Q. 35. संरचनात्मक समावयवी किसे कहते हैं?

Ans. दो या दो से अधिक रासायनिक यौगिक जिनके अनुसूत्र समान हो परंतु यौगिक की संरचना में भिन्नता हो तो ऐसे योगिक संरचनात्मक समावयवी कहलाते हैं।

Q. 36. आयनन समावयवी किसे कहते हैं?

Ans. वे उपसहसंयोजक यौगिक जिनके अनुसूत्र समान हो परंतु जलीय विलयन में पृथक पृथक आयन देते हो, आयनन समावयवी कहलाते हैं।

Q. 37. हाइड्रेट समावयवी किसे कहते हैं?

Ans. ऐसे उपसहसंयोजक यौगिक जिनके अनुसूत्र समान हो परंतु जल के अणुओं की संख्या समन्वयी मंडल और आयनिक मंडल में भिन्न हो हाइड्रेट समावयवी कहलाते हैं।

Q. 38. बंधक समावयवी किसे कहते हैं?

Ans. ऐसे यौगिक जिनमें एक दंतुक लिगैंड, उभयदंती लिगैंड हो अर्थात केंद्रीय धातु प्रमाणों से लिगैंड के दो दाता परमाणु उपसहसंयोजक बंध से बंधित हो सकते हैं बंधक समावयवी कहलाते हैं।

Q. 39. लिगैंड समावयवी किसे कहते हैं?

Ans. वे उपसहसंयोजक यौगिक जिनमें लिगैंड स्वयं समावयवता प्रदर्शित करते हो, लिगैंड समावयवी कहलाते हैं।

Q. 40. त्रिविम समावयवता किसे कहते हैं?

Ans. उपसहसंयोजक यौगिक जिनके अनुसूत्र संरचनात्मक क्सूत्र समान हो परंतु केंद्रीय धातु परमाणु से बंधित लिगैंडों की आकाशीय व्यवस्था भिन्न-भिन्न हो तो वे त्रिविम समावयवी कहलाते हैं एवं इस परिघटना को त्रिविम समावयवता कहतें है।

यह भी पढ़ें  भारत का भूगोल part 7
Q. 41. प्रकाशिक समावयवता किसे कहते हैं?

Ans. वे संकुल यौगिक जो समतल ध्रुवित प्रकार के तल को बाएं या दाएं घूमाते हों उन्हें प्रकाशित समावयवी कहते हैं व इसके इस गुण को प्रकाशिक समावयवता कहलाता है।

Q. 42. स्पेक्ट्रोरासायनिक श्रेणी किसे कहते हैं?

Ans. लिगैंडों को उनकी बढ़ती हुई प्रबलता के क्रम में एक श्रेणी में व्यवस्थित करें तो यह श्रेणी स्पेक्ट्रोरासायनिक श्रेणी कहलाती है।

Q. 43. ऐलिलिक कार्बन किसे कहते हैं?

Ans. इन यौगिकों में हैलोजन sp3 संकरित कार्बन से जुड़ा रहता है जो सीधा किसी भी द्विबंध के कारण से जुड़ा हो, इस sp3 संकरित कार्बन को ऐलिलिक कार्बन कहते हैं।

Q. 44. बेंजिलिक कार्बन किसे कहते हैं?

Ans. इन यौगिकों में हैलोजन sp3 संकरित कार्बन से जुड़ा रहता है जो सीधा एरोमेटिक वलय से जुड़ा हो, यह कार्बन बेंजिलिक कार्बन कहलाता है।

Q. 45. एल्किल हैलाइड कितने प्रकार की अभिक्रिया दर्शाते हैं?

Ans. एल्किल हैलाइड चार प्रकार की अभिक्रिया दर्शाते हैं।

Q. 46. वाल्डन प्रतिलोमन किसे कहते हैं?

Ans. इस अभिक्रिया में क्रिया कारक के अभिविन्यास से उत्पाद का विन्यास विपरीत हो जाता है अर्थात् इन अभिक्रिया में विन्यास कर प्रतिपन पर होता है इसे वाल्डन प्रतिलोमन कहते हैं।

Q. 47. सैत्जेफ का नियम किसे कहते हैं?

Ans. यदि एल्किल हैलाइडों की विलोपन अभिक्रिया में दो प्रकार की ऐल्कीन बनने की संभावना हो तो वह ऐल्कीन अधिक मात्रा में बनेगी जिसमें अधिक एल्कीन प्रतिस्थापी समूह उपस्थित हो इसे सैत्जेफ का नियम कहते हैं।

Q. 48. गाटरमान अभिक्रिया किसे कहते हैं?

Ans. यदि बेंजीन डाइएजोनियम क्लोराइड को कॉपर चुर्ण के साथ गर्म किया जाता है तो क्लोरो बेंजीन बनती है तथा इस अभिक्रिया को गाटरमान अभिक्रिया कहते हैं।

Q. 49. आयोडो बेंजीन प्राप्त करने के लिए बेंजीन डाइएजोनियम क्लोराइड की क्रिया किस से करवाई जाती है?

Ans. आयोडो बेंजीन प्राप्त करने के लिए बेंजीन डाइएजोनियम क्लोराइड की क्रिया KI से करवाई जाती है।

Q. 50. यदि क्लोरीन को अधिक्य में लिया जाता है तो क्या बनता है?

Ans. यदि क्लोरीन को अधिक्य में लिया जाता है तो बैंजोट्राईक्लोराइड बनता है।

over more gk questioins- सामान्य रसायन विज्ञान GK Part – 70

सामान्य रसायन विज्ञान gk Part 70

Leave a Comment