शैव धर्म के महत्वपूर्ण gk |

शैव धर्म के महत्वपूर्ण gk . शैव मत क्या है in hindi | शैव धर्म की उत्पत्ति | शैव पन्थ भारत की श्रमण परम्परा से आया ज्ञान धर्म और दर्शन है। शैव धर्म से जुड़ी महत्‍वपूर्ण जानकारी और तथ्‍य |

शैव धर्म के महत्वपूर्ण gk

Q 1. शैव धर्म किसे कहते है?

Ans शैव धर्म भगवान् शिव की पूजा करने वालो को कहते है.

Q 2. शिव के लिए रूद्र नामक देवता का उल्लेख किसमे किया गया है?

Ans शिव के लिए रूद्र नामक देवता का उल्लेख ऋग्वेद में किया गया है.

Q 3. अर्थवर्वैद में शिव को क्या कहा है?

Ans अर्थवर्वैद में शिव को भव, शर्व पशुपति, भूपति कहा है.

Q 4. लिंग पूजा का पहला स्पस्ट वर्णन किसमे किया गया है?

Ans लिंग पूजा का पहला स्पस्ट वर्णन मत्स्यपुराण में किया गया है.

Q 5. रूद्र की पत्नी का नाम क्या है?

Ans रूद्र की पत्नी का पार्वती है.

Q 6. रूद्र की पत्नी का नाम किसके अनुसार पार्वती था?
यह भी पढ़ें  सामान्य जीव विज्ञान प्रश्न उत्तर भाग - 56

Ans रूद्र की पत्नी का नाम तैतिरीय आरण्यक अनुसार पार्वती था.

Q 7. शैव संप्रदाय की संख्या कितनी है?

Ans शैव संप्रदाय की संख्या चार है.

Q 8.शैव संप्रदाय की संख्या चार किसके अनुसार है?

Ans शैव संप्रदाय की संख्या चार वामन पुराण अनुसार है

Q 9.चार शैव संप्रदाय कोन कोनसे है?

Ans चार शैव संप्रदाय पाशुपात, कापालिक, कालामुख,लिंगायत,है.

Q 10. शैवो का सबसे प्राचीन संप्रदाय कोनसा है?

Ans शैवो का सबसे प्राचीन संप्रदाय पाशुपात है.

Q 11. पाशुपात के विख्यात पंडित कोंन थे?

Ans पाशुपात के विख्यात पंडित श्रीकर आचार्य थे.

Q 12. कापालिक सम्प्रदाय के ईस्टदेव कौन थे?

Ans कापालिक सम्प्रदाय के ईस्टदेव भैरव थे.

Q 13. कापालिक संप्रदाय के प्रमुख केंद्र कोनसा था?

Ans कापालिक संप्रदाय के प्रमुख केंद्र श्री शैल था.

Q 14. महावर्तधर किसे कहा जाता था?

Ans महावर्तधर कालामुख संप्रदाय के अनुयायिओं कहा जाता था.

Q 15. लिंगायत कहाँ प्रचलित था?

Ans लिंगायत दक्षिण में प्रचलित था.

Q 17. लिंगायत का धार्मिक ग्रन्थ कोनसा है?

Ans लिंगायत का धार्मिक ग्रन्थ शून्य संपादने है.

Q 18 लिंगायत का दूसरा नाम क्या है?

Ans लिंगायत का दूसरा नाम वीरशिव है.

Q 19. एलोरा के प्रसिद्ध मदिर किसने बनाया था?

Ans एलोरा के प्रसिद्ध मदिर राष्ट्रकूट  बनाया था.

Q 20. कुषाण के शासको की मुद्रा पर किसका अंकन था?

Ans कुषाण के शासको की मुद्रा पर शिव तथा नंदी का एक साथ अंकन था.

OUR LETEST POST

Leave a Comment